पायलट खेमे की नई रणनीति से बढ़ी अशोक गहलोत की मुश्किलें

Rajasthan political crisis Sachin Pilot's new strategy

Rajasthan political crisis- राजस्थान में चल रही सियासी ​खींचतान में अभी तक सचिन पायलट पर भारी पड़ रहे अशोक गहलोत को मात देने के लिए पायलट गुट ने नई रणनीति (Sachin Pilot’s new strategy) पर काम शुरू कर दिया है। इससे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मुश्किलें कम होने की बजाय बढ़ गई है।

 

 

 

सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायक अब भी अशोक गहलोत के पक्ष में वोटिंग कर सकते हैं। ये सरकार के खिलाफ अपना वोट तभी देंगे जब उससे सरकार गिरने की नौबत आती हो। वरना बगावत का झंडा बुलंद कर रहे ये विधायक पार्टी के व्हिप का पालन करेंगे। इससे इनकी विधायकी भी नहीं जाएगी।

 

 

 

मुख्यमंत्री गहलोत की रणनीति फेल

ऐसा गहलोत सरकार को मात देने के लिए किया गया है। क्यों कि मुख्यमंत्री की रणनीति थी कि सत्र के दौरान सरकार किसी बिल पर वोटिंग के लिए पार्टी व्हिप जारी किया जाए। बागी खेमा इसका उल्लघंन करे और स्पीकर उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकें। इससे उनकी विधानसभा सदस्यता चली जाएगी। इससे विश्वास प्रस्ताव से पहले ही इनकी सदस्यता चली जाएगी और सरकार बच जाएगी।

 

 

 

सरकार के खिलाफ वोटिंग पर नई रणनीति (Sachin Pilot’s new strategy) 

सूत्रों के अनुसार सचिन पायलट गुट,वकील और भाजपा के वरिष्ठ नेताओं और पायलट के बीच चर्चा के बाद इसी रणनीति पर आगे बढ़ने का निर्णय किया गया है। इसके अनुसार अब सरकार के खिलाफ वोटिंग विश्वास या अविश्वास प्रस्ताव पर या मनी बिल पर ही की जाएगी। मनी बिल पारित ना होने पर भी सरकार गिर जाती है।

 

 

 

बागियों को सदस्यता बनाए रखना जरुरी

पायलट गुट का (Sachin Pilot’s strategy) मानना है कि विश्वास मत आने तक सभी सदस्यों को अपनी सदस्यता बचाए रखनी है। और अपनी सदस्यता सरकार को परास्त कर के ही गंवानी है। विधानसभा सत्र 14 अगस्त से शुरू हो रहा है। 15 और 16 को छुट्टी है, 17 अगस्त को गहलोत सरकार ऐसा कोई बिल ला सकती है, जिसमें पार्टी की ओर से व्हिप जारी किया जाए। पायलट सहित बागी खेमे में कांग्रेस के 19 विधायक हैं। उधर, गहलोत के दावों के उलट सरकार केवल दो विधायकों के दम पर है, एक भी विधायक इधर-उधर हुआ तो सरकार का गिरना तय माना जा रहा है।

 

 

 

[su_divider]

Jaipurpage.com से जुड़े रहने और सबसे पहले Hindi news पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक इंस्टाग्राम, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करें। यहां पढ़िए राजस्थान और जयपुर से जुड़ी ब्रेकिंग न्यूज और लेटेस्ट न्यूज़ इन हिंदी।

देश-दुनिया की खबरों के लिए यहां Click करें। Click here …

Leave a Comment