अंतर्राज्यीय वाहन चोर गिरोह का पर्दाफाश, फर्जी दस्तावेज से बेच दी लग्जरी गाड़ियां

Jaipur police caught inter-state vehicle thief gang

जयपुर पुलिस (Jaipur police) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए शातिर तरीके से वाहन चोरी कर फर्जी कागजात तैयार करने वाले अंतर्राज्यीय गैंग ( inter-state vehicle thief Gang) का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने इस वाहन गैंग के पांच शातिर बदमाशों को गिरफ्तार (Caught) किया है। इनसे 16 लग्जरी कारें और पांच बाइक बरामद की है। गैंग के अधिकांश बदमाश उत्तरप्रदेश और दिल्ली के हैं,गैंग ने फर्जी दस्तावेज बनाकर कई गाड़ियां बेची है।

 

 

पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि जयपुर शहर में एक शातिर गैंग के सक्रिय होने की सूचना मिली थी। ये गैंग हाईटेक तरीके से वाहन चोरी की वारदातों को अंजाम दे रहा था। इस गिरोह को पकड़ने के लिए स्पेशल टीम का गठन किया गया। ये गिरोह दिल्ली, हरियाणा और उत्तरप्रदेश से चोरी के वाहन लाकर फर्जी कागजात तैयार कर उसे बेचने का काम करता था।

 

 

मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने मुरलीपुरा निवासी श्याम सिंह राठौड़ और विश्वकर्मा निवासी भानूप्रताप सिंह उर्फ भानू बन्ना को गिरफ्तार किया। इनके पास से पुलिस ने पांच लग्जरी कारें जब्त की है। इन सभी कारों पर फर्जी नम्बर प्लेट लगी हुई थी। पूछताछ में इस गिरोह के तीन अन्य साथियों की जानकारी मिली। पुलिस ने हेमंत, भवानी सिंह और हकीमुद्दीन को भी धर दबोचा।

 

 

इनके पास से भी चोरी के वाहन बरामद हुए हैं। पुलिस ने अब तक तीन दर्जन वाहन चोरी और एक दर्जन वाहनों के फर्जी दस्तावेज तैयार करने का खुलासा किया है। जब्त वाहनों में टोयटा, मारुति स्विफ्ट डिजायर, हुडंई क्रेटा, वर्ना होंडा एसेंट,कैम्पास जीप और होंडा सिटी जैसी गाड़ियां शामिल है।

एसओजी की जांच में गहलोत सरकार गिराने का खुलासा, इन एमएलए को 25-25 करोड़ का ऑफर

 

 

ऐसे तैयार होते हैं फर्जी दस्तावेज

पुलिस जांच में सामने आया कि गैंग एक्सीडेंट में टोटल लोस गाड़ियों का फाइनेंस कंपनी से छुड़ाकर उसके ईंजन और चेसिस नंबर को चोरी किए वाहनों पर लगा देते थे। इसके बाद लोगों को बेच देते थे। आरोपी आरसी,इश्योरेंस और पोल्यूशन बनवाकर फाइनेंस के वाहन होने का हवाला देकर बेचते थे।

 

 

कौन हैं गैंग में शामिल बदमाश

​आरोपी श्याम सिंह राठौड़ ने बताया कि वह मूलत विवादित प्रोपर्टी का काम करता है। पहले भी कई बार जेल जा चुका है। श्याम सिंह ने दिल्ली से भवानी सिंह की गैंग से चोरी के वाहन खरीदकर जयपुर में बेचना स्वीकार किया है। वहीं भवानी सिंह ने दिल्ली की गैंग व हेमंत और समीर से बीस चोरी के वाहन खरीद कर अहमदाबाद में बेचे हैं। भवानी सिंह के पास से फर्जी दस्तावेज बरामद हुए हैं। हेमंत सिंह यूपी के कुख्यात वाहन चोर सारिक के लिए काम करता है। इसके खिलाफ 70 से अधिक मामले दर्ज हैं।

देश-दुनिया की खबरों के लिए यहां Click करें। Click here …

 

Leave a Comment