आठवीं फेल ने गूगल से सीखी ट्रिक, तीन राज्यों की पुलिस करने लगी एस्कोर्ट

eighth class failed learned tricks from Google police started escort

आठवीं फेल शख्स (Eighth Class Failed) ने गूगल से ट्रिक सीखकर ( Learned Tricks From Google ) पुलिस को चकमा दे दिया। ये शातिर पिछले पांच वर्षो से तीन राज्यों की पुलिस और बड़े-बड़े अधिकारियों को बेवकूफ बनाकर वीवीआईपी सुविधाओं का लाभ उठा रहा था। ठग वीआईपी बनकर पुलिस एस्कोर्ट (Police Started Escort) के साथ कई राज्यों की यात्रा कर चुका है। आखिरकार एक गलती के कारण ये शातिर ठग पुलिस की गिरफ्त में आ ही गया।

 

 

दिल्ली के खानपुर का रहने वाला गजराज सिंह गुर्जर आठवीं फेल है। ये 2015 से तीन राज्यों की पुलिस को बेवकूफ बनाकर पुलिस सुविधा और वीवीआईपी सुविधा ले रहा था। गजराज युवा हिंदू परिषद और भारत सरकार के राशन वितरण और सलाहकार समिति का सदस्य बनकर उसके लैटर हेड को पुलिस महानिदेशक,पुलिस अधीक्षक और कलेक्टर को ईमेल कर वीवीआईपी सुविधा और पुलिस सुरक्षा हासिल करता था।

 

 

 

ये फर्जी वीआईपी मथुरा पुलिस से प्रोटोकॉल लेकर भरतपुर होकर जयपुर जा रहा था। इसने भरतपुर में पुलिस से एस्कोर्ट मांगी थी लेकिन एसपी डॉ अमनदीप कपूर की सर्तकता से इस फर्जी वीआईपी को गिरफ्तार कर लिया। शातिर के खिलाफ ​हरियाणा, दिल्ली और अन्य अपराधों के सात मामले दर्ज हैं। प्रारम्भिक पूछताछ में सामने आया कि गजराज ने गूगल से वीआईपी सुविधा और पुलिस एस्कोर्ट के लिए ईमेल करना सीखा था।

ऐसे बन सकते हैं पुलिस मित्र,सीएलजी सदस्य बनने का भी मौका

 

 

भरतपुर में धरा गया शातिर फर्जी वीआईपी

भरतपुर एसपी डॉ अमनदीप सिंह कपूर ने बताया कि 16 जुलाई को पुलिस कंट्रोल रुम से सूचना मिली कि गजराज सिंह युवा मंच हिन्दू परिषद के दिल्ली से जयपुर जाने के क्रम में सुरक्षा और एस्कोर्ट के लिए ईमेल मिला है। एसपी अमनदीप ने जब इस ईमेल को चेक किया तो उसमें कई गलतियां थी। साथ ही गजराज के पद के अनुसार उन्हें वीआईपी सुविधा नहीं दी जा सकती। इस पर पुलिस टीम को पूरे मामले की जांच के लिए भेजा गया। गजराज गुर्जर पांच सालों से फर्जी तरीके से तीन राज्यों में घूम रहा था। ये वीवीआईपी सुविधा लेने के लिए खुद को बड़े संगठन का पदाधिकारी भी बताता था। गजराज ने राजस्थान पुलिस के दबिश देने के दौरान पपला गुर्जर को फरीदाबाद से भगाने में भी मदद की थी।

 

 

ऐसे हत्थे चढ़ा आठवीं फेल शातिर गजराज गुर्जर

गजराज गुर्जर ने भरतपुर एसपी, कलेक्टर और डीजीपी को मेल भेजकर पुलिस सुरक्षा चाही थी। इस मेल में कई ग​लतियां मिली और शक होने पर पुलिस अधिकारियों को यूपी बॉर्डर पर भेजा गया। जहां से वो सुरक्षा मांग रहा था। पूछताछ के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। जब पुलिस ने उससे सरकारी आदेश की प्रतिलिपी मांगी गई तो उसने इससे इनकार कर दिया। शातिर कभी सुप्रीम कोर्ट का आदेश तो कभी एफसीआई और दिल्ली विधानसभा का परिचय पत्र दिखा रहा था। गजराज का पीए सुमित कुमार शुक्ला ये मेल भेजा करता था।

देश-दुनिया की खबरों के लिए यहां Click करें। Click here …

 

Leave a Comment